Advertisements

बॉलीवुड अभिनेता ओमपूरी का दिल का दौड़ा परने से निधन

रौबदार आवाज और हरफनमौला अदाकारी से अपनी अलग पहचान बनाने वाले वरिष्ठ अभिनेता ओम पुरी अब इस दुनिया में नही रहे। बिलकुल आम से शक्ल सूरत वाले ओम पुरी के अदाकारी के बारे में कुछ भी कहना सूरज को दीपक दिखाने जैसा होगा।

18 अक्टूबर 1950 में अम्बाला के एक साधारण परिवार में जन्मे पूरी का बचपन काफी कष्टो में बिता। आर्थिक स्तिथि खराब होने के कारण उन्होंने कोयले बीनने से लेकर ढाबे तक में नौकरी किया है।पुणे फिल्म संसथान से प्रशिक्षित ओम पुरी ने अपने फिल्मी सफर की शुरुवात मराठी फिल्म घासी राम कोतवाल से की। आक्रोश उनके करियर की पहली हिट फिल्म साबित हुई। उसके बाद ‘आरोहण’ और ‘अर्ध सत्य’ के लिये उन्हें नेशनल अवार्ड से भी नवाजा गया।

उन्होंने कई टीवी सीरियल में भी काम किया। तमस में उन्होंने यादगार भूमिका निभाई तो वही दूरदर्शन की मशहूर टीवी सीरीज ‘भारत एक खोज’को भी दर्शकों ने खूब सराहा।1910 में पद्मश्री से समान्नित ओम पुरी ने अपने 4 दसक के लंबे करियर में 200 से अधिक हिंदी फिल्म और 20 हॉलीवुड की फिल्मों में भी अभिनय किया।
2009 में फ़िल्मफ़ेयर लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड से नवाजा गए पूरी ने ‘मिर्च मशाला’, ‘माचिस’, ‘धुप’ ‘मालामाल वीकली’ सहित कई बेहतरीन फिल्मों में योगदान दिया।

Advertisements

Leave a Reply

%d bloggers like this: